R Bharat

तेजस्वी यादव बोले: 'कर्नाटक में अगर राज्यपाल सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने के लिए बुलाते हैं तो बिहार में क्यों नहीं?'

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

जहां एक तरफ कर्नाटक के गवर्नर वजुभाई वाला ने कर्नाटक में उभरी सबसे बड़ी पार्टी भारतीय जनता पार्टी को सरकार बनाने का न्यौता देते हुए BJP नेता बी.एस येदियुरप्पा को कर्नाटक के 25वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाई है.

वहीं अब दूसरी तरफ राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने एक के बाद एक ट्वीट करके बीजेपी पर हमला बोला है और बिहार के गवर्नर से सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते मिलने की बात कही है. 

बता दें, तेजस्वी यादव कर्नाटक की तर्ज पर गवर्नर से मिलकर बिहार में भी सबसे बड़ी पर्टी को सरकार बनाने का निमंत्रण देने की अपील करेंगे. 

इसके साथ ही तेजस्वी यादव ने कहा, ''कर्नाटक में लोकतंत्र की हत्या के विरोध में कल पटना में राजद का एक दिवसीय धरना होगा. हम राज्यपाल महोदय से मांग करते है कि वो वर्तमान बिहार सरकार को भंग कर कर्नाटक की तर्ज़ पर राज्य की सबसे बड़ी पार्टी राजद को सरकार बनाने का मौका दें. मैं भाजपा के तर्क पर यह दावा ठोंक रहा हूं..''

बता दें, भारतीय जनता पार्टी कर्नाटक चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरकर आई है. बहुमत से भाजपा केवल कुछ ही सीट दूर है. ऐसे में कांग्रेस पार्टी ने अपने तमाम 78 विधायकों का समर्थन चुनाव के दौरान अपनी विरोधी पार्टी JD(S) को दे दिया है. बता दें, JD(S)+ को इस बार 38 सीटें ही मिली है.

कांग्रेस पार्टी ने बिना कोई शर्त JD(S) के नेता कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया है. कांग्रेस, कर्नाटक में भाजपा को रोकना चाहती थी इसलिए वो JD(S) को अपना समर्थन देकर राज्य में गैर भाजपा सरकार बनाना चाहती है.

लेकिन, कर्नाटक के गवर्नर ने कांग्रेस-JD(S) को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित नहीं किया. इसी को लेकर अब गवर्नर पर पक्षपात और लोकतंत्र की हत्या करने का आरोप लगाया है. 

वहीं इससे पहले, कर्नाटक में येदियुरप्पा की ताजपोशी के खिलाफ मोर्चा खोले हुए कांग्रेस पार्टी गोवा में भी एक्टिव हो गई है. गोवा के प्रदेश अध्यक्ष गिरीश चोडणकर ने राज्यपाल मृदुला सिन्हा से समय मांगा है. कांग्रेस कर्नाटक के तर्ज पर गोवा में भी सबसे बड़ी पर्टी को सरकार बनाने का निमंत्रण देने की अपील करेगी. 

गिरीश चोडणकर ने गुरुवार ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा, ''जिस प्रकार कर्नाटक के गवर्नर ने सबसे बड़ी टीम को सरकार बनाने का न्यौता भेजा है, क्यों ना यहां भी इसी प्रकार का अवसर कांग्रेस को दिया जाए. एक ही देश में दो राज्यों में अलग-अलग नियम क्यों?'' 

 

Below Article Thumbnails
DO NOT MISS