R Bharat

AAP नेताओं, कार्यकर्ताओं ने LG कार्यालय तक किया मार्च, यशवंत सिन्हा भी रहे शामिल

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

आईएएस अधिकारियों के संबंध में दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल के मध्य जारी गतिरोध के बीच हजारों आप नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने उपराज्यपाल कार्यालय तक मार्च किया. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उनके मंत्रिमंडल के सहयोगी सोमवार की शाम से उपराज्यपाल कार्यालय में धरने पर बैठे हुए हैं. 

भाजपा से हाल में इस्तीफा देने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा भी आप नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ मुख्यमंत्री के सिविल लाइन्स स्थित आवास पर इकट्ठा हुए, जहां से उपराज्यपाल कार्यालय की ओर विरोध मार्च निकाला गया.

आप कार्यकर्ताओं एवं नेताओं को संबोधित करते हुए सिन्हा ने इस ‘संघर्ष’ में केजरीवाल और आप के प्रति एकजुटता जाहिर की. सिन्हा ने कहा कि अगर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी इस समय प्रधानमंत्री होते तो गृह मंत्रालय को इस संकट का समाधान निकालने का निर्देश देते लेकिन मौजूदा सरकार ‘सो रही है.’

उन्होंने कहा कि पूरा देश दिल्ली की स्थिति को लेकर चिंतित है. पूर्व वित्त मंत्री ने कहा, ‘‘दिल्ली के संकट का समाधान जितनी जल्दी हो जाए, देश के लिए वह उतना ही बेहतर रहेगा.’’ आप सरकार उपराज्यपाल से आईएएस अधिकारियों को ‘हड़ताल’ खत्म करने का निर्देश देने और ‘चार’ माह से हड़ताल कर रहे अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रही है. 

विरोध मार्च के दौरान पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने उपराज्यपाल के खिलाफ नारेबाजी की. उन्होंने कहा ‘एलजी साहब, दिल्ली छोड़ो.’ 

इस मार्च को देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा के उचित इंतजाम किए थे. राज्यसभा सदस्य और आप के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा कि अगर आईएएस अधिकारी अपनी हड़ताल खत्म करने और काम शुरू करने का आश्वासन देते हैं तो ‘आप’ मुख्यमंत्री और उनके सहयोगियों से धरना समाप्त करने की अपील करेगी. 

उन्होंने कहा कि पार्टी गुरुवार को कैंडल मार्च निकालेगी. उन्होंने कहा कि अगर यह मामला रविवार तक नहीं सुलझा तो आप नेता और कार्यकर्ता प्रधानमंत्री कार्यालय पर धरना देंगे. आईएएस अधिकारियों के संघ ने कहा कि कोई भी अधिकारी हड़ताल पर नहीं है और दिल्ली सरकार का कोई काम प्रभावित नहीं हो रहा.

Below Article Thumbnails
DO NOT MISS